कई गांवों के विकास में नक्‍सली बने बाधक, अब ग्रामीणों को सरकार से है आस (देखें वीडियो )

सड़क काफी जर्जर हैपलामू : झारखंड के पलामू जिले में कई ऐसे गांव है, जिसका विकास नक्‍सल प्रभावित होने के कारण नहीं हो पाया है. ताजा उदाहरण है जिले के हुसैनाबाद अनुमंडल क्षेत्र के महूडंड गांव, जहां कई दशकों से माओवादियों का कब्जा रहा है. यही कारण है कि आज तक गांव की सड़कें नहीं बन पाई है. हालांकि अब हालात बदल रहे हैं. गांव में अब पुलिस पहुंच रही है. जिससे लोगों में आस जगी है कि अब गांव की बदहाल सड़कों का निर्माण होगा.

इसे भी पढ़ें : ‘रांची में नहीं पढ़ सकती तो जिंदा रह कर क्या फायदा’, कहकर खा लिया जहर

इसे भी पढ़ें : विधानसभा में गूंजा स्‍वामी अग्निवेश के साथ हुए मारपीट का मामला, हो-हंगामा के बीच कार्यवाही स्‍थगित

पगडंडी के सहारे मुख्‍य सड़क पहुंचते हैं ग्रामीण




गांव से मुख्य सड़क तक आने के लिए 15 किलोमीटर की दूरी तय कर ग्रामीण पगडंडी के सहारे पहुंचते हैं. गांव में अगर कोई बीमार पड़ जाए तो रास्ते में ही उसका दम निकल जाता है.  माओवादियों ने गांव को शरणस्थली बना रखा था, यही कारण है कि गांव का विकास नहीं हुआ. ग्रामीणों की मानें तो सड़क काफी जर्जर है. सड़क पर पैदल चलना भी मुश्किल है. ऐसे में कोई बीमारी पड़ जाता है तो परेशानी दोगुनी हो जाती है.

इसे भी पढ़ें : धनबाद: सुहागरात पर बीवी ने सुनाई प्रेमी की दास्तान, पति ने मोबाइल पर किया रिकॉर्ड

ग्रामीणों का कहना है कि जब भी सड़क बनने की बात आती थी, नक्सलियों द्वारा रोक लगा दी जाती थी. हालांकि गांव में अब पुलिस पहुंची है तो लोगों को उम्मीद है कि अब गांव में सड़क का निर्माण होगा. ग्रामीणों ने सरकार से जल्द से जल्द सड़क का निर्माण कराने की मांग की है. जिले के कई ऐसे गांव है, जिसका विकास नक्सलियों के कारण नहीं हो पाया.

इसे भी पढ़ें : रांची : उद्योगपति अमित सरावगी के ठिकानों पर सीबीआई का छापा, FIR भी दर्ज





WhatsApp chat Live Chat