कस्तूरबा अवासीय विद्यालय में नौवीं की बच्ची की मौत, सहपाठियों ने लगाया प्रताड़ित करने का आरोप

Ninth child Kasturba residential school, death classmates accused harassingबोकारो : चंदनकियारी प्रखंड के कामपुस के समीप स्थित कस्तूरबा गांधी आवासीय बालिका विद्यालय में नौवीं कक्षा में अध्ययनरत एक बच्ची ने अपने रूम में दुपट्टा के सहारे फांसी लगा ली. शाम के असेंबली में जब बच्ची अनुपस्थित रही तो मृतिका के सहपाठी एवं शिक्षिकाओं द्वारा खोजबीन करने पर बच्ची का कमरा बंद मिला. दरवाजा तोड़ने पर दिखा कि बच्ची पंखे से झूल रही थी.

प्राप्त जानकारी के अनुसार सुतरिबेड़ा गांव निवासी अली हुसैन अंसारी की पुत्री रुक्सार खातून कस्तूरबा गांधी आवासीय बालिका विद्यालय में कक्षा नौ में पढ़ती थी. जहां प्रतिदिन के भांति शाम के समय असेंबली चल रही थी. जिसमें रुक्सार अनुपस्थित रही. रुक्सार के नहीं दिखने पर सहपाठियों ने खोजबीन करनी शुरू कर दी. खोजबीन के दौरान रुक्सार का कमरा अंदर से बंद मिला. तो कुछ अनहोनी की आशंका जगी. उपस्थित शिक्षिका एवं वार्डन ने कमरे का दरवाजा तोड़ा तो देखा कि रुक्सार फंखे से झूल रही थी. इसकी सूचना जंगल की आग तरह फैल गई.

सहपाठियों ने लगाया प्रताड़ित करने का आरोप
कस्तूरबा विद्यालय में मृतका रुक्सार खातून के साथ अध्ययनरत बच्चियों ने विद्यालय के सहायक शिक्षिका नीलोफर एवं रीना कुमारी पर प्रताड़ित करने का आरोप लगाया. बच्चियों ने कहा कि उक्त दोनों मेडम पढ़ाई का टास्क पूरा नहीं करने पर विभिन्न प्रकार से प्रताड़ित किया करते हैं. यहां तक की टास्क पूरा नहीं होने पर डेढ़ से दो सौ बार तक उठक बैठक कराया जाता था.




रात दस बजे तक नहीं पंहुचे शिक्षा विभाग से कोई

कस्तूरबा विद्यालय में घटना के बाद दस बजे तक शिकहा विभाग से कोई भी सक्षम पदाधिकारी नहीं पंहुचे थे. रात करीब नौ बजे चास एसडीओ सतीश चंद्र विद्यालय पंहुचे एवं मृतक के सहपाठियों से पूछताछ की. जहां परिजनों ने एसडीओ से अविलंब दोषियों को गिरफ्तार करने की मांग की. बताते चलें की पूर्व में तीन छात्राओं की मौत हो चुकी है.

मृतिका के परिजन और ग्रामीण देर रात तक विद्यालय परिसर में हंगामा करते रहे. परिजनों ने वार्डन एवं अन्य शिक्षिकाओं को तत्काल गिरफ्तार करने और मुआवले की मांग करते रहे. घटना की जानकारी मिलते ही चंदनकियारी थाना प्रभारी, बरमसिया ऑफिस प्रभारी, आमलाबाद ओपी प्रभारी अपने दल बल के साथ घटनास्थल पर पहुंचे. मौके पर सीओ डॉ प्रमोद राम भी पहुंचे, लेकिन परिजन तथा ग्रामीणों ने किसी की एक नहीं सुना और हो हंगामा करते रहे.

बाद में रात 9:00 बजे चास एसडीओ सतीश चंद्रा पहुंचे. स्थिति को बिगड़ता देख लगभग रात 12:00 बजे डीएसपी महेश्वर कुमार सिंह पहुंचे. वह हंगामा कर रहे परिजनों को समझाते हुए FIR दर्ज कराने को कहा और दोषीयों को तत्काल गिरफ्तार करने की बात कह कर ग्रामीणों परिजनों को शांत कराया.

लगभग रात डेढ़ से  2:00 बजे मंत्री सह विधायक अमर कुमार बाउरी पहुंचे. मंत्री के समझाने बुझाने के बाद परिजन एवं ग्रामीण समझे और भोर 4बजे बच्ची की लाश को पुलिस ने स्कूल से निकालकर पोस्टमार्टम के लिए चंदनकियारी थाना ले आए.





WhatsApp chat Live Chat