नीरा यादव के बयान पर मचा सियासी घमासान, विपक्ष हुआ हमलावर (देखें वीडियो)

नीरा यादवरांची : झारखंड में प्लस टू शिक्षकों की बहाली और शिक्षा मंत्री नीरा यादव के बयान ने राजनीतिक हंगामा खड़ा कर दिया है. अनारक्षित पदों पर 75 प्रतिशत दूसरे राज्यों के अभ्यर्थियों की नियुक्ति के बाद विपक्षी दल आग बबुला है. इस नियुक्ति के बाद तृतीय और चतुर्थ श्रेणी में रोजगार के लिये प्रतीक्षारत अभ्यर्थियों को सोचने पर मजबूर कर दिया है.

राज्य स्थापना दिवस के दिन प्लस टू शिक्षकों के बीच बांटे गये नियुक्ति पत्र ने राजनीतिक हंगामा खड़ा कर दिया है. अनारक्षित कोटे में 75 प्रतिशत दूसरे राज्यों के अभ्यर्थियों की नियुक्ति ने विपक्षी दलों को राज्य सरकार पर हमला बोलने का मौका दे दिया है. सूबे की शिक्षा मंत्री नीरा यादव का बयान इस राजनीति को और हवा दे रहा है और जेएमएम प्रदेश की रघुवर दास सरकार को बाहरियों की सरकार बताते हुए निशाना साध रही है.




दरअसल विपक्ष का ये हंगामा तृतीय श्रेणी में दूसरे राज्य के युवाओं को प्लस टू शिक्षक नियुक्त करने को लेकर है. अब तक तृतीय और चतुर्थ श्रेणी में राज्य के अभ्यर्थियों का शत प्रतिशत नियुक्ति को लेकर राज्य सरकार दावा करती रही है, पर ताजा मामले ने इस दावे को एक झटके में खारिज कर दिया. विपक्षी दलों का हंगामा सिर्फ बयानबाजी तक ही सीमित नहीं है, बल्कि जेवीएम ने तो 30 नवंबर को राजभवन पर महाधरना का एलान कर दिया है.

सूबे की शिक्षा मंत्री नीरा यादव पर विपक्ष का चौतरफा हमला जारी है. कोई उनके जानकारी पर सवाल उठा रहा है, तो कोई उनके तर्क पर. शिक्षक बहाली के नाम पर शिक्षा विभाग का ये दाव उल्टा पड़ता दिख रहा है.

झारखंड में नियुक्ति और नियुक्ति में गड़बड़झाला का पुराना रिश्ता रहा है. इस बार राज्य को प्लस टू शिक्षक के तौर पर एक हजार से ज्यादा शिक्षक तो मिल गए, पर इस नियुक्ति ने राज्य सरकार को कठघरे में लाकर खड़ा कर दिया.





Loading...
WhatsApp chat Live Chat