“मेडिसीन फ्री लाईफ’’ विषय पर कार्यशाला का आयोजन,  कैंसर समेत कई रोगों से बचाव की दी गई जानकारी

कार्यशालागुमला : नगर भवन गुमला में केरला आयुर्वेदिक संस्थान के तत्वावधान में “मेडिसीन फ्री लाईफ’’ विषय पर कार्यशाला का आयोजन किया गया. कार्यशाला का संचालन डॉ निलेश चर्पे द्वारा किया गया. उन्होंने कार्यशाला पर स्वास्थ्य संबंधी कई महत्वपूर्ण विषयों की जानकारी देते हुए, उससे बचाव की सलाह दी. जिसमें मुख्य रूप से मानसिक तनाव से बचाव, कैंसर से बचाव, ब्लड प्रेशर की बीमारी से बचाव, हार्ट अटैक से बचाव, शरीर में दर्द सहित अन्य रोग से बचाव के बारे में प्रॉपर प्‍वाइंट प्रजेन्टेशन के द्वारा एक-एक कर विस्तृत जानकारी दी गई. अपना ख्याल कैसे रखा जाना चाहिए, आप की जीवनशैली कैसी होनी चाहिए सभी के बारे में बारी-बारी से बताया गया. कार्यशाला में मानसिक तनाव से होने वाले आकस्मिक मृत्यु से बचने के तरीके बताते गये. डॉ निलेश ने लोगों के खान-पान के बारे में बताया. उन्होंने कैंसर से बचाव के लिए लहसून को गैस में सेक कर दो टुकड़ा कर पानी के साथ लेने की सलाह दी. उन्होंने इस प्रक्रिया को पूरे 28 दिन तक लगातार करने की सलाह देते हुए कहा कि आप इसे सुबह को ब्रश-शौच करने के बाद 28 दिन तक प्रतिदिन ले,  इससे आप कैंसर जैसी खतरनाक बीमारी से बच सकते हैं.

इसे भी पढ़ें :मनरेगा योजनाओं की डीसी ने की समीक्षा, वर्तमान वित्त वर्ष के लक्ष्य को पूरा करने का निर्देश

मानसिक तनाव से बचने के लिए करें मॉर्निंग वाक




उन्होंने मानसिक तनाव से बचने का सबसे अच्छा उपाय मॉर्निग वाक को बताया. हार्ट अटैक के बारे में उन्होंने बताया कि मन में चल रहे तनाव को दूसरों के साथ शेयर करें, इससे तनाव दूर होगा और हार्ट अटैक की संभावना कम होगी. उन्होंने हाई ब्लड प्रेशर के बचाव के लिए कांच के ग्‍लास में मेथीसीस पाउडर का घोल बनाकर पीने की सलाह दी. उन्होंने क‍हा कि इस प्रक्रिया को 14-15 दिन तक लगातार करें. हाई ब्लड प्रेशर जब सामान्‍य हो जाये तब तीन महीने में एक बार इस प्रक्रिया को करें. वहीं लो  ब्लड प्रेशर से बचाव के बारे में बताते हुये उन्होंने कहा कि रात में 50 ग्राम किशमिश को पानी में भिगोएं एवं सुबह को ब्रश के बाद खाली पेट में खाएं. यह प्रक्रिया 7-8 दिन तक लगातार करने से लो ब्लड प्रेशर की बीमारी कंट्रोल हो जाएगी. साथ ही कंट्रोल होने के बाद तीन महीने में कम से कम एक बार इसका सेवन करने की सलाह दी. इसके अलावे कार्यशाला में कई महत्वपूर्ण स्वास्थ्य संबंधी सलाह दी गई.

इसे भी पढ़ें :करंट लगने से 7 पशुओं की मौत, शीघ्र मुआवजा नहीं मिलने पर आत्‍महत्‍या करेंगे किसान !

कार्यशाला में ये लोग थे मौजूद

कार्यशाला में उपायुक्त शशि रंजन, उप विकास आयुक्त नागेन्द्र कुमार सिन्हा, भूमि सुधार उप समाहर्ता अंजना दास, अपर समाहर्ता आलोक शिकारी कच्छप, नेप निदेशक नयनतारा केरकेट्टा, जिला परिवहन पदाधिकारी विजय वर्मा, जिला कोषागार पदाधिकारी अजय कच्छप, जिला योजना पदाधिकारी अरुण कुमार सिंह, सहायक निदेशक सामाजिक सुरक्षा कोषांग नेहा संजना खलखो, जिला स्थापना उप समाहर्ता अजय तिर्की, जिला पंचायती राज पदाधिकारी धनबीर लकड़ा सहित अन्य पदाधिकारी एवं कर्मी प्रमुख रूप से मौजूद थे.





WhatsApp chat Live Chat