पाकुड़ : प्रशासन की बड़ी कार्रवाई, सरकारी जमीन पर कब्जा किये 50 परिवारों को किया बेघर

पाकुड़ : मुफ्फसिल थाना क्षेत्र के बेलपोखर तालाब के पास सरकारी जमीन को गुरुवार को अतिक्रमण मुक्त करा लिया गया. उक्त जमीन पर अतिक्रमण कर लगभग 40 से 50 परिवार पिछले  30 वर्षों से अशियाना बन कर रह रहे थे. बेलपोखर तालाब के किनारे गुजर-बसर कर रहे परिवारों ने धीरे-धीरे सरकारी जमीन पर कब्जा किया. इसके बाद सरकारी लाभ शौचालय, बिजली, प्रधानमंत्री आवास, कुआं जैसे मूलभूत सुविधाओें का प्रयोग भी करते आ रहे हैं. कई बार बेलपोखर तालाब के पास बसे लोगों से जमीन को अतिक्रमण मुक्त करने को लेकर प्रशासन अपने स्तर से कारवाई करना चाहती थी, पर राजनीतिक कारणों से मामला ठंडे बस्ते में रह जाता.

सीएम जनसंवाद में की गयी थी शिकायत

सीएम रघुवर दास की लोकप्रिय 181 जनसंवाद में शिकायत की गई थी कि सरकारी जमीन पर अवैध रूप से कब्जा कर अशियाना बनाकर कुछ लोग रह रहें हैं. सीएम की जनसंवाद में शिकायत आने के बाद सीएम के प्रधान सचिव सुनिल वर्णवाल ने पाकुड़ जिला प्रशासन को 15 दिनों के अन्दर सरकारी जमीन को अतिक्रमण मुक्त कराने का आदेश दिया. इसके बाद प्रशासन हरकत में आई और बेलपोखर तालाब के पास बैठक कर वहां रह रहे सभी लगों को सरकारी जमीन खाली करने का निर्देश दिया.




दल-बल के साथ अतिक्रमण मुक्त कराने पहुंचे थे अधिकारी

एसडीओ जितेन्द्र कुमार देव, एलआरडीसी परितोष ठाकुर, एसडीपीओ अशोक कुमार सिंह, सीओ प्रशांत कुमार लायक, पुलिस निरीक्षक सह नगर थाना प्रभारी एसएस तिवारी, हिरणपुर थाना प्रभारी अवधेश कुमार सिंह सहित बड़ी संख्या में  महिला-पुरूष सुरक्षा बल के साथ बेलपोखर तालाब पहुंचे. बुलडोजर लगा कर सरकारी जमीन पर बसे लगभग 40 से 50 परिवारों के अशियाने को ध्वस्त कर दिया. बता दें कि बेघर हुए लोगों ने प्रशासन के समक्ष बरसात में घर खाली नहीं कराने की अपील की थी, पर सरकारी आदेश का पालन करते हुए कार्रवाई समय पर पूरी की गयी.





Loading...
WhatsApp chat Live Chat