NEWS11

Breaking Jharkhand Palamau

जिंदगी-मौत  के बीच झूल रहा पलामू का राहुल, नहीं मिल रही कोई मदद

पलामू : सरकारी सिस्टम की बेरुखी के कारण पलामू का राहुल जिंदगी और मौत  से लड़ रहा है. राहुल जायसवाल 12वीं का छात्र है. वह आगे पढ़ना चाहता है और अपने परिवार व अपने राज्य का भी नाम रोशन करना चाहता है, परंतु वो ब्रेन ट्यूमर से पीड़ित है. राहुल और उसके परिवार सरकारी सिस्टम के चक्कर काट कर थक चूके हैं. उन्हें सरकार की तरफ से ना तो कोई सहायता मिली और ना ही सरकार के प्रतिनिधियों की तरफ से कोई सांत्वना देने नहीं आया.

दो साल से पीड़ि‍त राहुल का नहीं हो रहा समुचित इलाज

शहर के हमीदगंज निवासी प्रदीप जायसवाल का पुत्र राहुल जायसवाल को पिछले 2016 से ब्रेन ट्यूमर से पीड़ित है. गरीबी और लाचारी के कारण  राहुल का परिवार समुचित इलाज नहीं करा पा रहा है. चंद रिश्तेदारों की मदद व घर का जो भी पैसा था सभी राहुल के इलाज में लगा चुका है अब इनके पास कुछ भी नहीं जिससे बेटे का इलाज करा सके.

अभी तक नहीं मिला सरकारी स्‍वास्‍थ्‍य लाभ

दरअसल इस परिवार को सरकारी स्वास्थ्य लाभ इसलिए नहीं मिला क्‍योंकि‍ स्थानीय प्रमाण पत्र व आय प्रमाण पत्र बनने में प्रखंड कर्मियों ने गड़बड़ी कर दी. प्रखंड कर्मियों ने आय प्रमाण पत्र लक्ष्य से ज्यादा बना दिया, यही कारण इन्हे अभी तक कोई मदद नहीं मिला. खुद राहुल की माने तो वह आगे पढ़ना चाहता है मगर ब्रेन ट्यूमर होने के कारण वह पढ़ाई नहीं कर पा रहे हैं. नवोदय विद्यालय में पढ़ने वाला तेज तर्रार छात्र आज लाचार और बेबस नजर आ रहा है. राहुल का कहना है कि उसके पिता गरीब हैं जिसके कारण उसका इलाज अभी तक नहीं हुआ हैं. वहीं राहुल भी मदद की गुहार लगा रहे हैं.

अभी तक नहीं बना प्रमाण पत्र

दरअसल राहुल के पिता प्रदीप जायसवाल इलेक्ट्रॉनिक दुकान में काम करते हैं. जिसे मुश्किल से परिवार का गुजारा होता है. ऐसे में इस तरह के असाध्य रोग के इलाज के लिए यह परिवार अब तक सबकुछ लगा दिया. फिर भी अभी राहुल का इलाज पूरी तरह से नहीं हो पाया है. प्रदीप जायसवाल की मानें तो कई बार ब्लॉक, कचहरी का चक्कर लगाया फिर भी प्रमाण पत्र नहीं बना. वहीं पलामू के स्वास्थ्य विभाग भी कोई मदद नहीं कर रहा है. प्रदीप का कहना है कि मेरे साथ जो हुआ सो हुआ दूसरे के साथ ऐसा नहीं होना चाहिए. सरकार को व्यवस्था बनानी चाहिए कि पहले इलाज कराएं बाद में प्रमाण पत्र मांगे ताकि इस तरह के मरीज का समुचित इलाज हो सके.

Related posts

17वीं लोकसभा का पहला सत्र कुछ ही देर में होगा शुरू, पांच जुलाई को पेश किया जायेगा पूर्ण बजट

Sanjeev

टीम इंडिया को गब्‍बर के बाद लगा एक और झटका, अब भुवनेश्‍वर तीन मैचों के लिए हुए बाहर

Sanjeev

रन फॉर योग में दौड़ा डुमरी, लोगों को किया जागरूक

Sanjeev

बीजेपी को प्रचंड वोट देने के लिए मंत्री अमर बाउरी ने जताया आभार, कहा- प्रदेश में बह रही है विकास की धारा

Sanjeev

विश्व कप में भारत ने एक बार फिर पाकिस्तान को चटाई धूल, 89 रन से जीता मैच

Sanjeev

JMM केंद्रीय समिति की बैठक में उठी मांग, ईवीएम नहीं बैलेट पेपर से हो चुनाव

Rajesh
WhatsApp chat Live Chat