BREAKING

पुलिस को मिली बड़ी सफलता,  एटीएम क्‍लोन गिरो‍ह का एक सदस्‍य गिरफ्तार,  73 क्‍लोन एटीएम बरामद  

पुलिस को मिली बड़ी सफलता,  एटीएम क्‍लोन गिरो‍ह का एक सदस्‍य गिरफ्तार,  73 क्‍लोन एटीएम बरामद  हजारीबाग : पूरे राज्‍य से एटीएम का क्‍लोन बनाकर पैसे निकासी के मामले अक्‍सर सामने आते रहते हैं. व‍हीं हजारीबाग में पहली बार एटीएम का क्लोन बनाकर पैसे निकालने का मामला सामने आया है. इस मामले में एक व्यक्ति की गिरफ्तारी भी हुई है. पुलिस अधीक्षक ने बताया कि एक पूरा गिरोह है जो एटीएम का क्लोन बनाकर रुपए की निकासी करता था. पूरे राज्य में इससे पहले इतनी अधिक मात्रा में क्‍लोन ATM बरामद नहीं हुआ था. पुलिस इसे बड़ी सफलता मान रही है. इस गिरफ्तारी से ATM हेराफेरी के कई मामलों का पटाक्षेप होने की संभावना है. इस मामले में चार लोग फरार बताए जा रहे हैं. जिनकी धड़-पकड़ के लिए हजारीबाग पुलिस लगातार छापेमारी कर रही है.

इसे भी पढ़ें : बोकारो : घरेलू कलह की वजह से वृद्ध ने की आत्महत्या, ग्रामीणों के हंगामे के बाद बहू गिरफ्तार

ऐसे होती है डेबिट और क्रेडिट कार्ड की क्लोनिंग

साइबर ठग बहुत ही खुफिया तरीके से एटीएम और क्रेडिट कार्ड का क्लोन करते हैं. इसके लिए वह स्कीमर मशीन का इस्तेमाल करते हैं. स्कीमर मशीन में कार्ड के स्वाइप करते ही आपके कार्ड की सारी डिटेल इस मशीन में कॉपी हो जाती है. इसके बाद आरोपी कंप्यूटर और अन्य तरीकों इस डेटा को एक खाली कार्ड में डालकर क्लोन तैयार करते हैं. ठग इसी क्लोन का इस्तेमाल कर दूर-दराज के इलाकों से आपके खाते से लाखों रुपये निकालने का काम करते हैं. इस तरीके से पूरे देश के कई शहरों में ठग लाखों रुपये की ठगी की वारदात को अंजाम दे चुके हैं.



इसे भी पढ़ें : सांसद आदर्श ग्राम का बुरा हाल, यहां पीएम आवास योजना व शौचालय के लिए तरस रहे हैं ग्रामीण 

एटीएम मशीन में फिक्स कर देते हैं मशीन

इसी तरह ठग कर्इ एटीएम मशीनों में एक कीट लगाते हैं. इसमें कीपैड पर एक मेट के तरीके का उपकरण, स्वाइप की जगह कॉपी मशीन और पासवर्ड को देखने के लिए एक बटन जैसा कैमरा लगाया जाता है. यह कैमरा आपके पासवर्ड और स्वाइप की जगह लगी मशीन आपके डेटा को सेव करती है. इस मशीन में जितने भी एटीएम स्वाइप होते हैं, उनका डेटा इस डिवाइस में चला जाता है. इसे मौका पाकर ठग निकाल लेते हैं. जिसके बाद उसी प्रक्रिया के तहत कार्ड का क्लोन तैयार कर खाते से रुपये निकाल लेते हैं.

इसे भी पढ़ें : इंग्लैंड ने बनाया वर्ल्ड रिकॉर्ड, वनडे में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ ठोक डाले 481 रन

ये बरतें सावधानियां तो हो सकता है बचाव

  • उपभोक्ता उस एटीएम से पैसे कभी न निकाले, जहां पर गार्ड तैनात न हो.
  • अपना एटीएम वह स्वयं ही प्रयोग करें, किसी और को इस्तेमाल के लिए न दें.
  • एटीएम केबिन में यदि कोई और है तो उसके बाहर निकलने पर ही मशीन का प्रयोग करें.
  • सबसे विशेष एटीएम की मशीन में जहां पर कार्ड डाला जाता है वहां पर उसे खिंचकर देखें. यदि क्लोनिंग मशीन फिट की गई होगी तो वह हाथ लगाने पर पता लग जाएगी.
  • इसी तरह एटीएम प्रयोग करते समय जहां पर एटीएम कार्ड लगाया जाता है वहां पर हरी लाइट जलने लगेगी. यह लाइट तब तक नहीं रुकेगी जब तक उपभोक्ता पैसे निकासी का कार्य कर कार्ड वापिस निकालकर आगे की ट्रांजेक्शन के लिए कैंसिल नहीं कर देता.
  • हरी लाइट नहीं जलती है तो इसका सीधा सा मतलब है कि मशीन के साथ किसी ने छेड़छाड़ कर उसे हैंग किया है. ऐसे में उस मशीन का प्रयोग न करें.


WhatsApp chat Live Chat