मकर संक्रांति और टुसू की तैयारी जोरों पर, बाजार की बढ़ी रौनक

चंदनकियारी (बोकारो) : मकर संक्रांति के अवसर पर झारखण्ड राज्य के सीमावर्ती इलाकों में टुसू पर्व की धूम दूर-दराज तक सुनाई देती है. राजकुमारी टुसू की याद में युवतियां व महिलाएं एक पखवाड़े पूर्व ही इसकी तैयारी में लग जाती है. जिसमें चोड़ोल (टुसु की याद में कागज व बांस से बना मॉडल) की खरीददारी को स्थानीय हाट बाजारों में भीड़ उमड़ पड़ती है. जिसे मकर संक्रांति के दिन निकटवर्ती नदी में प्रवाहित किया जाता है.




चोड़ोल कि खरीददारी से लेकर विसर्जन तक युवतियां अलग-अलग झुंड बनाकर टुसू संगीत गाती हैं. मकर संक्रांति के अवसर पर इस पर्व को पूस पर्व के रूप में मनाया जाता है. जहां मकर संक्रांति से एक दिन पूर्व बाउडी पर्व से लेकर संक्रांति के दूसरे दिन आखान जातरा तक मनाया जाता है. इसी दिन से ग्रामथान व दिबघरा मेला से एक सप्ताह तक ग्रामीण मेले का आयोजन विभिन्न स्थानों पर आयोजित होता है. जहां लोग अपने घरेलू आवश्यक सामग्रियों की खरीददारी करते हैं.

पूस पर्व के अवसर पर ग्रामीण क्षेत्रों में तिल, चिड़ा, मुड़ी समेत कई प्रकार गुड़ से लड्डू बनाया जाता है. साथ ही चावल के आटा से पूस पीठा तथा कई प्रकार के पुआ व पकवान बनाये जाते हैं. जिसे मकर संक्रांति के अवसर पर प्रसाद के रूप में ग्रहण करते हैं.



Loading...
WhatsApp chat Live Chat