जेल पहुंच बहनों ने भाईयों की कलाई पर बांधी राखी, गलत काम न करने का दिलाया शपथ

रक्षाबंधनजामताड़ा : रक्षाबंधन का त्‍योहार रविवार को जिलेभर में धूमधाम से मनाया गया. सुबह से घरों में बहन-भाई के इस त्‍योहार को लेकर तैयारियां शुरू हो गई थी. बहनें सज-धजकर अपने भाईयों के घर पहुंची. जहां ईश्वर पूजन के बाद भाई को तिलक लगाकर मिठाई खिलाकर बहन ने राखी बांधी. इस मौके पर बच्चों में विशेष उत्साह देखने को मिला. विभिन्न जगहों पर धार्मिक अनुष्ठान भी हुए. जिसमें भी बड़ी संख्या में लोग शामिल हुए.

Read More : धनबाद: सामूहिक दुष्कर्म से गर्भवती हुई किशोरी, डॉक्टरों ने किया गर्भपात से इंकार

Read More : तमाड़: सामूहिक दुष्कर्म कांड में खुलासा, पति ने 5 लाख में तय की थी बीवी की मौत

डीएन एकेडमी के छात्राओं ने बांधी कैदियों को राखी

मंडलकारा परिसर में रक्षाबंधन समारोह का आयोजन कर कैदियों की कलाई में स्कूली छात्राओं एवं राज योग प्रशिक्षण केंद्र प्रजापिता ब्रह्मकुमारी ईश्वरीय विद्यालय न्यूटाउन जामताड़ा की बहनों ने 215 कैदियों की कलाई पर रक्षा सूत्र बांधा. मौके पर कैदी भाईयों ने बहनों को प्रेमस्वरूप राशि प्रदान की. स्थानीय डीएन एकेडमी जामताड़ा स्कूल की छात्रा शुभरा प्वाइटंदी, सोनम कुमारी, आयुषी कुमारी, देवा द्रीता मंडल, शिक्षक राजीव कुमार. इसी प्रकार राज योग प्रशिक्षण केंद्र के बीके अंजलि, बीके सावित्री, बीके रूबी, बीके शंकर, बीके चमन बहनों ने कैदी भाईयों की कलाई पर राखी बांधी. रक्षाबंधन समारोह को देखते हुए जेल प्रबंधन ने व्यापक सुरक्षा के प्रबंध किए थे. समारोह के तहत मंडलकारा के कर्मियों पदाधिकारियों को भी बहनों ने राखी बांधी.




Read More : 1 दिन में 40 सिगरेट पीता है 2 साल का बच्चा, रोकने पर होता है गुस्सा

Read More : धनबाद : राखी पर भाई ने की आत्‍महत्‍या, प्रेमिका से लड़ फैक्‍ट्री में ही लगा ली फांसी

जेल में बंद भाईयों को बहनों ने बांधी राखी

रक्षाबंधन के त्‍योहार पर मंडलकारा में बहनें अपने-अपने भाईयों को राखी बांधने पहुंची. जहां भाई की पीड़ा को देखकर बहनों और उनके साथ गई मां और पत्नियों के आंखों से आंसू आ गए. राखी बांधने के अलावा जितना समय भी अपनों के साथ बिताने का मिला बिताया. रक्षाबंधन त्‍योहार पर जेल में बंद अपने भाई की कलाई पर राखी सजाने के लिए बहनें सुबह से ही जेल परिसर में पहुंच गई थी. जहां लंबी लाइन में लगाकर अपने भाई से मिलने का इंतजार किया. जैसे ही बहन ने भाई को देखा आंखों से आंसू छलकने लगे. सुबह 9:00 बजे से दोपहर तक बहनों की कतार भाईयों को राखी बांधने के लिए लगी रही. इस दौरान जेल परिसर में कैदियों के परिजनों के बैठने की व्यवस्था की गई थी.

Read More : मुस्लिम बहनों ने हिंदू भाईयों को बांधी राखी, दो समुदायों के बीच की दूरी पाटने की पहल





WhatsApp chat Live Chat