Fifa World Cup : फाइनल में फ्रांस को मिली विवादास्पद पेनल्टी पर उठा सवाल

Questions controversial penaltyस्पोर्ट्स डेस्क : फ्रांस ने फीफा वर्ल्ड कप के फाइनल में क्रोएशिया को 4-2 से हराकर रोमांचक जीत दर्ज किया है. साथ ही 20 साल बाद फुटबॉल का सरताज बनने में सफल रहा है.

फ्रांस ने इससे पहले 2006 में वर्ल्ड कप का फाइनल खेला था, जहां इटली ने उसे ख़िताब पर कब्ज़ा करने से महरूम रख दिया था. इससे पहले 1998 में फ्रांस में ही आयोजित फीफा वर्ल्ड कप में पहली जीत दर्ज की थी.

IND VS ENG : विराट के सामने वनडे की चुनौती, इन खिलाड़ियों को मिल सकती है टीम में जगह

इस मैच में एक समय ऐसा था जब दोनों टीमें 1-1 के बराबरी पर थीं. लेकिन मैच के 38 मिनट में कुछ ऐसा हुआ, जिसे लेकर विवाद खड़ा हो गया है. फ्रांस के खिलाड़ी एंटोनी ग्रीजमैन ने गेंद को बॉक्स के अंदर डालने की कोशिश की जो क्रोएशिया के इवान पेरिसिक के हाथों से टकरा गई. इस पर रेफ़री ने पेनल्टी नहीं दी. फ्रांस वीएआर की अपील की, जिसका फैसला उसके पक्ष में रहा और उसे एक पेनल्टी का उपहार मिल गया.




टीम इंडिया को महेंद्र सिंह धोनी पूर्व कप्तान गांगुली का युवाओं पर भरोसा दिखाने के कारण मिला

रेफरी एंटोनी ग्रीजमैन ने पेनल्टी को गोल में बदलकर फ्रांस को 2-1 से आगे कर दिया. वर्ल्ड कप के इतिहास में यह पहला फाइनल था, जिसमें वीएएआर के जरिए पेनल्टी का फैसला हुआ.

क्रोएशिया के कोच ने उठाए सवाल

क्रोएशिया के कोच ने इस पर नाराजगी जताते हुए कहा कि फाइनल मैच में इस प्रकार की पेनल्टी नहीं दी जा सकती. कोच ज्लातको डालिक ने कहा कि हमने शानदार खेला लेकिन पेनल्टी के कारण मैच हमारे हाथों से निकल गया. जिसके बाद मैच मुश्किल हो गया. मैं इसके लिए सिर्फ एक वाक्य कहना चाहूंगा कि फाइनल में इस तरह की पेनल्टी नहीं दी जा सकती.





WhatsApp chat Live Chat