BREAKING

हुल के प्रति सच्ची श्रद्धांजली संथाल परगना और जनजातीय समाज के विकास में- द्रौपदी मुर्मू

rajypal droupadi murmu hool divasदुमका : हुल दिवस के अवसर पर झारखण्ड की राज्यपाल अपने एक दिवसीय कार्यक्रम में दुमका उपराजधानी पहुंची. झारखण्ड की राज्यपाल द्रोपदी मुर्मू दुमका के दिघगी स्थित सिधो कान्हू मुर्मू विश्वबिधायल में हुल दिवस के अवसर पर सिधो कान्हू मुर्मू विश्वविद्यालय में निर्मित पुलिस ओपी का उद्घाटन किया. उसके बाद राज्यपाल द्रोपदी मुर्मू इंडोर स्टेडियम में सिधो कान्हू मुर्मू विश्वविद्यालय द्वारा हुल दिवस के अवसर पर आयोजित सांस्कृतिक कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में शिरकत करने पहुंची.




एक तरफ से हो रहा है निर्माण, दूसरी तरफ से ढह रही है पुलिया, पंचायत प्रतिनिधियों ने बंद कराया काम

सिदो कान्हू मुर्मू विश्वविद्यालय द्वारा इंडोर स्टेडियम दुमका में कार्यक्रम का आयोजन किया गया. कार्यक्रम के मुख्य अतिथि माननीय राज्यपाल सह कुलाधिपति द्रौपदी मुर्मू,  विशिष्ट अतिथि समाज कल्याण मंत्री डॉ लुइस मरांडी, कृषि मंत्री रणधीर सिंह ने दीप प्रज्वलित कर कार्यक्रम की विधिवत शुरुआत की. कार्यक्रम में राज्यपाल द्वारा विश्वविद्यालय के न्यूज़ बुलेटिंग के साथ हुल पर प्रकाशित पुस्तिका का लोकार्पण किया गया. झारखण्ड की राज्यपाल द्रोपदी मुर्मू ने अपने सम्बोधन में कहा कि संथाल हुल के प्रति सच्ची श्रद्धांजलि संताल परगना और जनजातीय समाज के सर्वांगीण विकास में निहित है. आज के दिन पूरे राज्य में इस दिवस को धूम धाम से मनाया जाता है लेकिन संताल परगना में इस धरती के महानायक सिदो-कान्हू, चांद- भैरव, फूलो-झानो को लोग विषेष रूप से याद करते हैं. संथाल परगना एक ऐसा भूखंड है जहां सिदो-कान्हू, चांद- भैरव, फूलो-झानो जैसे महानायकों ने अपने देश के लिए निछावर कर दिया. ये लोग आदिवासी सम्प्रदाय के थे. आदिवासी सम्प्रदाय एक ऐसी सम्प्रदाय है जो प्रकृति को पूजा करता है. जिस तत्व से हम बने है. आदिवासी की विकास के लिए उनके अधिकार के लिए आदिवासियों को शिक्षित करना होगा.

गिरिडीह – भाग रहे बच्चा चोर को पुलिस ने बरकाकाना रेलवे स्टेशन से किया गिरफ्तार



WhatsApp chat Live Chat