रांची: 23 दिसंबर से मारवाड़ी भवन में होगा भागवत सप्ताह का आयोजन

Ranchi organize Bhagwat Week Marwari Bhavan December-23रांची: 23 दिसंबर से रांची के हरमू रोड स्थित मारवाड़ी भवन में होने वाला है. यह कार्यक्रम 30 दिसंबर तक चलेगा. भागवत कथा का पाठ मथुरा से पधारे 108 संस्कृत के विद्वान पंडितों के द्वारा किया जाएगा. इस दौरान मथुरा निवासी गोविन्द बाबा के ज्येष्ठ पुत्र आचार्य बांके बिहारी गोस्वामी जी के श्रीमुख से भागवत कथा गंगा प्रवाहित होगी.

इस सात दिवसीय भागवत कथा का प्रारम्भ 23 दिसंबर को हरमू रोड स्थित गौशाला से शोभायत्रा के उपरान्त अपराह्न 2 बजे से किया जायेगी. इस शोभा यात्रा में 108 यजमानो के द्वारा श्रीमद भागवत कथा के पोथी को माथे में लेकर नगर भ्रमण किया जाएगा.

23 दिसंबर से 30 दिसंबर तक के कार्यक्रम निम्न है :




  • चंदनकियारी: अधूरे शौचालय के भरोसे पूर्ण ओडीएफ का दावा
  • 23 दिसंबर को श्रीमद भागवत कलश शोभा यात्रा (हरमू रोड, गौशाला से), मंगला चरण श्री मद भगवत महात्मय
  • 24 दिसंबर कपिल भगवान चरित्र, कपिल गीता एवं ध्रुव चरित्र
  • 25 दिसंबर जड़ भारत कथा एवं नरसिंघ अवतार
  • 26 दिसंबर मोहिनी चरित्र, श्री बलि वामन भगवान् प्रसंग एवं श्री कृष्णा जन्म एवं नंदोत्सव
  • 27 दिसंबर श्री कृष्णा बाल लीला, गोवर्धन पूजा एवं छपन भोग दर्शन
  • 28 दिसंबर गोपी उध्हव संवाद, रुक्मणि मंगल विवाह एवं सुदामा चरित्र
  • 29 दिसंबर श्रीमद भागवत व्यास पूजा, श्री शुकदेय विदाई एवं फूलो की होली एवं कथा विश्राम
  • 30 दिसंबर गीता पाठ, हवन, पूर्णाहुति एवं भंडारा प्रशाद

कथावाचक आचार्य बांके बिहारी जी ने भागवत कथा महत्त्व को बताते हुए कहा कि यह एक ऐसा कल्पवृक्ष है जिसे कोई भी व्यक्ति समर्पण भाव से करे तो उसकी हर मनोकामना पूरी होती है. उन्होंने कहा जो भी व्यक्ति घर के पितृ दोष निवारण, सन्तान प्राप्ती, गृहदोष, शीघ्र विवाह हेतु आदि मनोकामनाओं से पाठ कराना चहाते हैं उसके निमित्त संकल्प प्रदान कर यजमान बनें और पुण्य के भागी बनें.

आचार्य बांके बिहारी जी का जन्म सम्वत 2031 को मथुरा नगरी में पूज्य गुरुदेव गोस्वामी गोविन्द बाबा श्री की धर्मपरायणा शांति स्वरूपा भार्या श्रीमती शांति देवी के यहां प्रथम पुत्र के रुप में हुआ. घर में पहले से ही पूर्वजो द्वारा भागवत दृष्टिगत होने के कारण वही संस्कार ग्रहण किया. उन्होंने अपने पिता पूज्य गुरुदेव गोस्वामी गोविन्द बाबा महाराज से ही गुरुदीक्षा ली.





Loading...
WhatsApp chat Live Chat