BREAKING

NCLT ने साइरस मिस्त्री की याचिका को किया खारिज, रतन टाटा के पक्ष में दिया फैसला

Ratan Tata dismisses petition Cyrus Mistryनई दिल्ली : साइरस मिस्त्री को टाटा संस के चेयरमैन पद हटाए जाने के बाद शुरू हुए विवाद को लेकर एनसीएलटी(नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल) का फैसला आ गया है. सोमवार को एनसीएलटी ने रतन टाटा के पक्ष में फैसला देते हुए साइरस मिस्त्री की याचिका को खारिज कर दिया है.

आपकी हाथों में कल से दिखेगा 125 रुपये का सिक्का

दायर याचिका पर सुनवाई करते हुए एनसीएलटी ने कहा कि साइरस को कंपनी की संवेदनशील जानकारी लीक करने की वजह से पद से हटाया गया है. उन्हें आईटी डिपार्टमेंट और मीडिया में लीक करने के कारण पद से हटाया गया है.

धोनी के साथ बिज़नस करने का मौका, ऐसे कमा सकते हैं 2.50 लाख रूपए प्रति महिना



बता दें कि टाटा संस के बोर्ड ने 24 अक्टूबर 2016 को साइरस मिस्त्री को चेयरमैन के पद से हटा दिया था. साथ ही ग्रुप की अन्य कंपनियों से भी बाहर निकालने के लिए कहा था. जिसके बाद साइरस ने ग्रुप की 6 कंपनियों से अपना इस्तीफा दे दिया था. और एनसीएलटी में याचिका दायर की थी.

BSE की बड़ी कार्रवाई, शेयर मार्केट से 222 कंपनियां होंगी बाहर

साइरस मिस्त्री ने टाटा ग्रुप में अनियमितता बरतने का आरोप लगाया था. साथ ही रतन टाटा पर भी आरोप लगाए गए थे. अपनी याचिका में साइरस ने कहा था कि उन्हें ग्रुप के कुछ प्रमोटर्स के कारण इस्तीफा देना पड़ा था. उन्होंने आरोप लगाया था कि रतन टाटा के अव्यवस्थित प्रबंधन के कारण टाटा ग्रुप को आय का काफी नुकसान उठाना पड़ा. हालांकि एनसीएलटी ने इन आरोपों को खारीज कर दिया.

रिलायंस की एनुअल जनरल मीटिंग : Jio फोन-2 और ब्रॉडबैंड लॉन्च, 15 अगस्त से सेवाएं शुरू



WhatsApp chat Live Chat