BREAKING

रथयात्रा 4 दिन बाद, झूलों से सज कर तैयार है मेला परिसर

rath yatra after 4 days रांची: राजधानी रांची में रथयात्रा बड़े धूमधाम से मनाई जाती है. इस यात्रा में लोग काफी उत्साहित होते हैं. हो भी क्यों ना? रथयात्रा के पुण्य के अलावा लगने वाले रथमेले की शोभा भी तो चेहरे की मुस्कान बढ़ा देती है.

इस बार 14 जुलाई को रथयात्रा निकाली जाएगी. भव्य रथ पर भगवानों को विराजकर मौसीबाड़ी पहुंचाया जाएगा. जहां कुछ दिन रहने के बाद घूरती मेला में सभी वापस मंदिर आएंगे. लेकिन इसके बीच रथमेला भी लोगों के बीच आकर्षण का केंद्र बना रहता है.

झारखंड के सबसे बड़े मेलों में से एक का आनंद हर कोई उठाना चाह रहा है. जुलाई से 9 दिनों तक रांची में एक पर्व सा माहौल होता है. देश के कई राज्यों से दुकानदार आते हैं और यहां के लोग उनकी संस्कृतियों से परिचित होते हैं. उत्साह खासकर बच्चों और महिलाओं में देखने लायक रहता है. फिर भी मेले का आनंद तभी तक है, जबतक कि हमें कोई नुकसान न उठाना पड़े.



 मेले में जाने के दौरान विशेष सावधानी बरतनी जरूरी होती है. यदि मेले में आप अपने परिवार के साथ जा रहे हैं तो सभी की सुरक्षा भी बेहद जरूरी है. अपने बच्चे का विशेष ख्याल रखना होगा. मेले में लोकल अपराधी ज्यादा सक्रिय हो जाते हैं. किसी भी तरह की समस्या होने पर मेला प्रबंधन और पुलिस द्वारा उपलब्ध कराए गए हेल्प लाइन नंबर पर अविलंब सहायता मांगनी चाहिए.यदि आपका बच्चा पता और अन्य जानकारी बताने में सक्षम है तो उसकी जेब में सारे विवरण लिखकर एहतियातन डाल दें.

ऐसा अक्सर देखा गया है कि मेले में लोग कुछ भी खा लेते हैं और बीमार हो जाते हैं. इससे बचना होगा. खुली चीजों को न खाना ही बेहतर होगा. खासकर बच्चों को इससे बचाना होगा. कोशिश करना होगा की ढकी हुई चीजों को ही खाया जाय. मेला जा रहे हैं तो पानी साथ ले जाएं, या फिर बोतल बंद पानी ही खरीदकर बच्चों को पिलाएं. कुछ भी खाने से पहले ध्यान रखें कि सामग्री खुले में न रखी हो.



WhatsApp chat Live Chat