BREAKING

खूंटी में ग्रामीण पुलिस से बातचीत के लिए तैयार, सर्च अभियान अब भी जारी

jharkhand khunti pathalgadiखूंटी में ग्रामीण पुलिस से बातचीत के लिए तैयार हो गए हैं और वो बातचीत के जरिए मसले का हल निकालना चाहते हैं. बता दें कि सांसद कड़िया मुंडा के 3 जवानों को बंधक बनाए जाने के बाद पुलिस टीम पूरे गांव में छापेमारी अभियान चला रही है. इस दौरान लोगों के साथ पुलिस की झड़प भी हुई. इसी दौरान एक शख्स की मौत हो गयी. जबकि कई लोग घायल हुए हैं. वहीं, कई लोगों को हिरासत में भी लिया गया है. इधर पुलिस अगवा जवानों की खोजबीन में लगी हुई है. गांव के हर घर में तलाशी जारी है.

जाने क्या है पूरा मामला

खूंटी : खूंटी के अनिगड़ा स्थित श्मशान घाट के पास मंगलवार को पुलिस के साथ हुई झड़प के बाद करीब 300 पत्थलगड़ी समर्थकों ने बीजेपी के लोकसभा सांसद और पूर्व लोकसभा उपाध्यक्ष कड़िया मुंडा के घर पर हमला कर दिया. और सांसद के आवास पर तैनात तीन हाउस गार्ड को अगवा कर लिया. वहीं कड़िया मुंडा के बॉडीगार्ड किसी तरह अपनी युनिफोर्म को उतारकर अपनी जान बचाई. इतना ही नहीं उनसे तीन इंसास राइफल भी लूट लिए गए.




अगवा तीनों पुलिस कर्मी लातेहार के महुआडाड निवासी सुबोध कुजूर, सिमडेगा के विनोद केरकेट्टा और पोक्ला निवास्सी सियों सुरिन हैं. उन्हें दिन के करीब 2.30 बजे अगवा किया गया.

पुलिस और ग्रामीणों के बीच झड़प

इस घटना की जानकारी मिलते ही पुलिस महकमे में हडकंप मचा हुआ है. तीनों को मुक्त कराने के लिए खूंटी डीसी सूरज कुमार और एसपी अश्विनी कुमार सिन्हा करीब 500 पुलिस कर्मियों  के साथ शाम सात बजे घाघरा में आयोजित ग्रामसभा के बाहर पहुंचे.

इस ग्रामसभा का आयोजन युसूफ पूर्ति ने की थी. अधकारियों ने ग्रामसभा में शामिल लोगों ने बात करने की कोशिश की. ग्रामसभा की ओर से कहा गया कि पोलस प्रशासन के केवल पांच ही लोग बातचित के लिए आएंगे. जिसके बाद प्रशासन ने भी कुछ शर्त रखे और दोनों पक्ष इसके लिए तैयार नहीं हुए.

इन्हें भी पढ़ें …..आपातकाल का काला दिवस, बीजेपी महासचिव ने कहा- निर्दलीय विधायक मुख्यमंत्री नहीं बनते, तो झारखंड की तस्वीर कुछ और होती



WhatsApp chat Live Chat