बालू का अवैध कारोबार धड़ल्‍ले से जारी, रोक लगाने में प्रशासन नाकाम

बालू का अवैध कारोबारपाकुड़ (लिट्टीपाड़ा) : लिट्टीपाड़ा में बालू माफियाओं का कहर बदस्तूर जारी है. यहां बालू माफिया इस कदर हावी हैं कि दिन हो या राह चौबीसों घंटे सैकड़ों ट्रैक्टर अवैध तरीके से बालू का उठाव कर प्रखंड सहित सीमावर्ती जिला साहिबगंज भेजा जा रहा है. इन ट्रैक्टरों की आवाजाही पर न तो पुलिस रोक लगा रही है और न ही प्रशासनिक स्तर से ठोस कार्रवाई हो रही है. ऐसे में आम लोगों में रोष व्याप्त है. साथ ही प्रतिदिन सरकार को लाखों रुपए चूना लग रहा है.

प्रखंड प्रमुख ने बीडीओ व थाना प्रभारी को लिखा पत्र

सोमवार को बालू का अवैध उठाव की रोकथाम को लेकर झामुमो प्रखंड अध्यक्ष सह प्रमुख सुलेमान बास्की ने प्रखंड विकास पदाधिकारी सह अंचल अधिकारी सत्यवीर रजक, जिला खनन पदाधिकारी, अनुमंडल पदाधिकारी व स्थानीय थाना को पत्र लिखकर बालू के अवैध उठाव की रोकथाम करने की मांग की है. उन्होंने पत्र में कहा कि प्रखंड के धमनी नदी के चटकम, दरादर व छोटाघाघरी घाट से बालू माफियाओं द्वारा अवैध तरीके से प्रतिदिन 50 से 60 ट्रैक्‍टर बालू उठाव कर प्रखंड सहित साहिबगंज जिले के विभिन्न इलाकों में खुलेआम ले जाया जाता है और माफियाओं द्वारा उसे ऊंचे दामों पर बेच दिया जाता है, जिससे सरकार को प्रतिदिन लाखों रुपए के राजस्व का नुकसान हो रहा है. उन्होंने प्रशासन से यथाशीघ्र अवैध तरीके से बालू के उठाव पर रोक लगाने की मांग की है.




बालू माफियाओं को मिल रहा प्रशासन का सहयोग

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार धमनी नदी के विभिन्न घाटों से बालू माफियाओं द्वारा अवैध तरीके कर रहे बालू उठाव में माफियाओं को प्रशासन का सहयोग प्राप्त है. माफियाओं द्वारा कहा जाता है कि बालू का अवैध धंधा चलाने को लेकर प्रशासन को 500 से 1000 रुपए तक हफ्ता दिया जाता है. इसी वजह से भयमुक्त होकर कारोबार किया जाता है.

क्या कहते हैं बीडीओ

बीडीओ सत्यवीर रजक ने बताया कि बालू उठाव की जानकारी नहीं थी. अब एक रणनीति के तहत बालू माफियाओं पर लगाम लगाया जाएगा.

क्या कहते हैं पुलिस पदाधिकारी

ओपी थाना प्रभारी राजकुमार सिंह ने बताया कि धमनी नदी से हो रहे बालू उठाव पर रोक लगाने के लिए सीनियर अधिकारी द्वारा कोई आवश्यक दिशा-निर्देश नहीं दिया गया. आदेश प्राप्त होने से निश्चित रूप से कार्रवाई की जायेगी.





Loading...
WhatsApp chat Live Chat