शपथ ग्रहण के विरोध में कांग्रेस का धरना, बीजेपी को कोर्ट में दिखानी होगी राज्यपाल की चिट्ठी


नई दिल्ली : कर्नाटक में 222 सीटों पर हुए विधानसभा चुनाव के परिणामों के आने के बाद तीन दिनों से सियासी उठापटक जारी है. इसी बीच बीएस येदियुरप्पा ने गुरुवार को 9 बजे सीएम पद की शपथ ले ली. कांग्रेस और जेडीएस के गठबंधन ने बीजेपी को सरकार बनाने से रोकने के लिए कई प्रयास किये. एचडी कुमारस्वामी ने इन दो दिनों में दो बार राज्यपाल से मुलाकात भी की. लेकिन कर्नाटक के राज्यपाल वजुभाई वाला ने बीजेपी को बुधवार रात को सरकार बनाने का निमंत्रण दिया. राज्यपाल के इस फैसले के बाद कांग्रेस-जेडीएस रात को ही सुप्रीम कोर्ट पहुंच गई. देर रात 2:10 बजे सुनवाई शुरू हुई और सुप्रीम कोर्ट ने सुबह 4.20 में फैसला दिया कि कोर्ट राज्यपाल के फैसले में कोई रोक नहीं लगाएगी. बता दें कि आजाद भारत के इतिहास में यह दूसरी बार है जब सुप्रीम कोर्ट में आधी रात को फैसला हुआ है. इससे पहले 2015 में  मुंबई ब्लास्ट के आरोपी याकूब मेमन को फांसी की सजा देने के लिए सुप्रीम कोर्ट रात तीन बजे खोला गया था. राज्यपाल ने बीजेपी को बहुमत साबित करने के लिए 15 दिनों का समय दिया है.

जमशेदपुर : अंतरराष्ट्रीय स्तर के मल्टीप्लेक्स का उद्घाटन आज, प्रकाश झा ने कहा 25 साल पुराना सपना

दूसरी ओर कांग्रेस राज्यपाल के फैसले के खिलाफ विधानसभा के बाहर धरने पर बैठ गई है. कांग्रेस ने इस मामले को लेकर सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी है. माना जा रहा है कि कोर्ट इस मामले में गुरूवार को सुनवाई कर सकता है. अदालत ने बीजेपी से राज्यपाल के न्योते वाले चिट्ठी की मांग की है.

बता दें कि 224 सीटों में से 222 सीटों पर हुए विधानसभा चुनाव में बीजेपी 104 सीटें हासिल कर सबसे बड़ी बनी है, जबकि कांग्रेस ने 78 और जेडीएस ने 38 सीटें हासिल की हैं. कांग्रेस ने जेडीएस को समर्थन दिया है.

चाईबासा: हेडफोन लगा बाइक चला रहा था शख्स, एक्सीडेंट में गई जान

राज्यपाल के फैसले के विरोध में नव निर्वाचित विधायक विधानसभा भवन के सामने धरने पर बैठे हैं. गुलाम नबी आजाद, मल्लिका अर्जुन खड्गे और सिद्धरमैया समेत पार्टी के अन्य नेता भी उनके साथ मौजूद हैं. वहीं कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्वीट किया है कि कर्नाटक में बहुमत के बगैर बीजेपी की सरकार बनाने की मांग बेतुकी है. यह संविधान का मजाक है.

 

 

ये भी पढ़ें...

शत्रुघ्न सिंहा ने फिर उगला बीजेपी के खिलाफ जहर, कहा- कर्नाटक में हुई लोकतंत्र की हत्या

गोमिया-सिल्ली उपचुनाव: प्रचार अभियान हुआ तेज, झोंकी जा रही है पूरी ताकत