रांची : सीएम की समीक्षा बैठक, कहा- 2018 तक सभी घरों में बिजली


रांची : झारखण्ड में  सौभाग्य योजना, प्रधानमंत्री आवास योजना, स्वच्छ भारत मिशन, प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना सहित अन्य फ्लैगशिप स्कीमों की मुख्यमंत्री ने प्रमंडल स्तरीय समीक्षा की. चार दिनों तक चले समीक्षा में कई मुद्दों को लेकर चर्चा हुई. इस दौरान कई योजनाओं की वर्तमान स्थिति जानी गयी और साथ ही कई दिशा-निर्देश भी दिए गए.

 झारखण्ड में चल रहे फ्लैगशिप योजनाओं की समीक्षा में मुख्यमंत्री ने हर प्रमंडल का  बारी-बारी से हाल जाना. अधिकारियों को कई निर्देश दिए गए और योजनाओं को तय समय पर पूरा करने का लक्ष्य गया.

अपना और अपने बेटे का सरकारी बंगला बचाने सीएम आदित्यनाथ के पास पहुंचे मुलायम

केंद्र प्रायोजित विभिन्न फ्लैगशिप योजनाओं की स्थिति की जानकारी को लेकर मुख्यमंत्री रघुवर दास की अध्यक्षता में पिछले 4 दिनों से चली आ रही समीक्षा बैठक के आखिरी दिन गुरुवार को मुख्यमंत्री ने दक्षिणी छोटानागपुर प्रमंडल के अंतर्गत आने वाले 5 जिलों रांची, गुमला, लोहरदगा, सिमडेगा और खूंटी जिले की समीक्षा की. समीक्षा के दौरान मुख्यमंत्री ने इन सभी ज़िलों के उपायुक्तों को योजनाबद्ध तरीके से मिशन मोड में काम करने का निर्देश दिया.

सीएम रघुवर की दो टूक, कहा- बैंक गरीबों की पूरी तरह से सहयोग नहीं कर रहा है

राज्य आयुक्त विकास खरे ने बताया कि राज्य में चल रही फ्लैगशिप योजनाओं में वैसे तो सभी योजनाएं महत्वपूर्ण हैं, लेकिन इन योजनाओं में कई योजनाएं ऐसी भी हैं जिसे इसी साल पूरा करने को लेकर मुख्यमंत्री घोषणा भी कर चुके हैं. ऐसे में समीक्षा के दौरान मुख्यमंत्री ने सभी जिलो के डीसी को ये निर्देश दिया की हर महीने में अलग-अलग विभाग के साथ बैठक हो ताकि योजनाओं की गति का पता चल सके. मुख्यमंत्री ने 15 नवंबर 2018 तक पूरे राज्य के उज्वला लाभुकों का केवाईसी पूरा करने का निर्देश दिया है. साथ ही गुमला, खट्टी और रांची को जल्द ही ओडीएफ घोषित करने का भी मुख्यमंत्री ने निर्देश दिया है. मुख्यमंत्री ने कहा है कि 2018 तक सभी घरों में सरकार बिजली पहुंचा देगी.

खूंटी : एक बार फिर दो नाबालिग बच्चियां लापता, बैंक से पैसा निकालने घर से निकली, नहीं आई वापस

चार दिनों तक चले प्रमंडल की बैठकों में मुख्यमंत्री ने योजनाओं की गति का जायजा तो लिया ही साथ ही कहा क्या कमी है जिसके कारण रफ़्तार धीमी है, इसकी भी जानकारी ली और निर्देश दिया. अब देखना ये है की मुख्यमंत्री की इस समीक्षा के बाद फ्लैगशिप योजनाओं में कितनी तेज़ी आती है.

4 रूपए तक महंगा होगा पेट्रोल-डीजल, ये होगी वजह

बैठक में मुख्य सचिव सुधीर त्रिपाठी, विकास आयुक्त अमित खरे, वित्त विभाग के अपर मुख्य सचिव सुखदेव सिंह, CM के प्रधान सचिव सुनील कुमार वर्णवाल, सहित विभागों के प्रधान सचिवों के अलावे रांची, खूंटी, सिमडेगा, गुमला और लातेहार जिला के उपायुक्त भी उपस्थित थे.


ये भी पढ़ें...

भारतीय डाक विभाग ने ग्रामीण डाक सेवक के पदों पर निकाली वैकेंसी

OnePlus6 भारतीय बाजारों में लांच, ये होगी उसकी प्राइस और स्पेसिफिकेशन