रिम्स के गर्ल्स हॉस्टल में सुरक्षित नहीं हैं लड़किया, ब्वॉयज हॉस्टल के लड़के घुस कर करते हैं छेड़खानी

रांची : रिम्स का गर्ल्स हॉस्टल एक बार फिर से असुरक्षित नजर आ रहा है. अंधेरा होते ही छात्राओं को डर सताने लगता है. अपने ही कॉलेज के ब्वॉयज हॉस्टल में रहने वाले छात्र इन्हें परेशान करते हैं. रिम्स के निदेशक प्रो डॉ डीके सिंह ने भी माना कि लड़कियों की सुरक्षा में कमी है. कहा कि रिम्स के गर्ल्स हॉस्टल की सुरक्षा बढ़ाई जाएगी.

दरअसल, राज्य के सबसे बड़े मेडिकल कॉलेज राजेन्द्र इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस में पढ़ाई कर रही छात्राएं इन दिनों असुरक्षित हैं. छात्राओं को अपने ही कॉलेज में पढ़ाई करने वाले छात्रों से डर लगता है. पिछली रात भी नशे में धुत कुछ छात्रों ने जबरन रिम्स के गर्ल्स हॉस्टल में प्रवेश किया और लड़कियों के साथ बदसलूकी की. रिम्स निदेशक ने कहा कि कुछ लड़कों ने ऐसी बदमाशी करने की कोशिश की, जिन्हें रोका गया है. लड़कियों की सुरक्षा में बदलाव की जाएगी. सुरक्षा व्यवस्था को दुरुस्त किया जाएगा. साथ ही 6 गार्डों की तैनाती भी की जाएगी.

वहीं रिम्स में एमबीबीएस की पढ़ाई कर रही छात्राओं की मानें तो उन्हें भी शाम ढलते ही डर सताने लगता है. रिम्स परिसर में उनके कॉलेज के ही छात्र बदसलूकी करते हैं, जिससे छात्राएं डरी-सहमी हुई हैं. छात्रा ने कहा कि लड़कों की तरह लड़कियों को शाम में निकालने की आजादी नहीं है. उन्हें सुरक्षा का भय सताता है.

जाहिर है समाज में महिलाओं को आधी आबादी का दर्जा दिया गया है, लेकिन इसी सभ्य समाज की संकुचित मानसिकता के कुछ लोग आधी आबादी को परेशान करने से नहीं चूकते हैं. जिसका खामियाजा महिलाओं को भुगतना पड़ता है. इसका जीता-जागता उदाहरण रिम्स में पढ़ाई करने वाली छात्राएं हैं.



Loading...
WhatsApp chat Live Chat