आतंकी हाफिज और पाक मंत्री एक मंच पर, बात खुली तो कुरैशी ने कही ये बात

Terrorist Hafiz Pakistan Minister stage matter open Qureshi saidवाशिंगटन: पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने अपने कैबिनेट सहयोगी नूर-उल-हक कादरी द्वारा इस सप्ताह की गई गलती को स्वीकार किया. उन्होंने कहा कि कादरी को वर्ष 2008 के मुंबई हमले के मास्टरमाइंड हाफिज सईद के साथ मांझ साझा करने के दौरान अधिक संवेदनशील होना चाहिए थे.

पाकिस्तान के धार्मिक मामलों के मंत्री कादरी के इस्लामाबाद में एक सभा में लश्कर-ए-तैयबा के प्रमुख हाफिज सईद के साथ मंच साझा करने के बारे में पूछे जाने पर विदेश मंत्री ने कहा कि मैं स्वदेश जाऊंगा और निश्चित तौर पर यह पूछूंगा कि उन्होंने ऐसा क्यों किया. हालांकि उन्होंने कहा कि मुझे बताया गया कि वह कश्मीर में स्थिति का उल्लेख करने के लिए एक कार्यक्रम था.




उन्होंने कहा कि इसका लश्कर-एतैयबा से कुछ लेना देना नहीं था. वहां अन्य राजनीतिक तत्व थे. वह उनमें से एक था. कुरैशी अमेरिकी कांग्रेस द्वरा मुहैया कराए जाने वाले धन से चलने वाले शीर्ष थिंक टैंक यूएस इंस्टिट्यूट ऑफ़ पीस में बोल रहे थे. उन्होंने कहा कि नूर-उल-हक कादरी को अधिक संवेदनशील होना चाहिए था, लेकिन इसका यह मतलब नहीं था कि वह उसके विचार से इत्तेफाक रखता है.

बता दें कि कादरी इस्लामाबाद में रविवार को दिफ़ा-ए-पाकिस्तान काउंसिल द्वारा आयोजित सर्वदलीय सम्मेलन में सईद के समीप बैठे दिखाई दिए थे. सम्मेलन की पृष्ठभूमि में एक बैनर में ‘पाकिस्तान की रक्षा’ लिखा था और भारत के खतरों के साथ-साथ कश्मीर का भी जिक्र था. दिफ़ा-ए-पाकिस्तान राजनीतिक और धार्मिक दलों का गठबंधन है, जो रुढ़िवादी नीतियों की पैरवी करता है. इसमें 40 अधिक शामिल हैं.

कुरैशी ने कहा कि वह आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में गंभीर है. उन्होंने कहा कि हम आतंकवाद के आगे घुटने नहीं टेक सकते. हमें उनका मुकाबला करना होगा.





WhatsApp chat Live Chat