NEWS11

Breaking Jharkhand Jharkhand Top Ranchi

मुसीबत की घड़ी में जब अपनों ने छोड़ा साथ तो अल्‍लाह का बंदा बना सहारा (देखें वीडियो)

अल्‍लाह का बंदा बना सहारा

कलजुग सिंह का अपनों ने छोड़ा साथ, जाति धर्म से उपर उठकर वसीम करा रहा इलाज

रांची : जब अपने ही पराये हो जाये तो क्या कहे, मगर जब पराये अपने हो जाए तो उसे क्या कहें. पवित्र महीना रमज़ान में एक रोजेदार ने अपना फर्ज अदा किया. परिवार होने के बावजूद अनाथ वृद्ध को इलाज के लिए रिम्स लाया. वृद्ध कलजुग सिंह के अपनों ने तो साथ छोड़ दिया, मगर पराये होते हुए भी वसीम अहमद आज उसका सहारा बना.

जिस पत्नी और बच्चे के लिए कलजुग सिंह ने सारी उम्र मेहनत और मजदूर करता रहा. आज मुसीबत आने पड़ उसी परिवार वालों ने साथ छोड़ दिया. मगर कहते हैं ना कि सच्चे दिल से  मदद करने वाला न जात पूछता है, न ही धर्म. बोकारो जिले के दुगड्डा के रहने वाले 55 वर्षीय कलजुग सिंह को सड़क में दुर्घटना में गंभीर चोट लगी. घायल व्यक्ति का इलाज करवाने के लिए अपने ही परिवार वालों ने मना कर दिया. मगर खुदा का एक बंदा वसीम अहमद आज उसका सहारा बनकर उसका इलाज करवा रहा है. रिम्स के हड्डी रोग विभाग में भर्ती मरीज ने कहा कि अपनों ने तो साथ छोड़ दिया, मगर जो पराये थे वो आज अपनों से बढ़ कर निकले. वसीम से उनका रिश्ता खून के रिश्ते से भी बड़ा रिश्ता है.

पवित्र महीना रमज़ान चल रहा है रोजेदार भूखे प्यासे रहकर रोजा रख रखते हैं और अल्लाह से इबादत करते हैं. वसीम भी रोजे में रहकर अस्पताल में कलजुग की सेवा कर रहा है. उसने कहा कि उससे उसका खून का कोई रिश्ता नहीं, मगर उससे भी बढ़कर इंसानियत और मानवता का रिश्ता जरूर है. क्योंकि उनका कौम उन्हें यह सिखाता है कि इंसानियत से बढ़कर कोई चीज नहीं. इंसानियत के नाते किसी की मदद करनी ही उनके लिए रोजा, नवाज़ और जकात के समान है, क्योंकि इंसानियत से बड़ा कोई धर्म नहीं.

अक्सर ऐसा देखने को मिलता है कि जब मां-बाप बूढ़े हो जाते हैं तो उनके अपने बच्चे ही उनका साथ छोड़ देते हैं. जिस उम्र में लोगों को अपने के सहारे की सबसे ज्यादा जरूरत होती है, उस उम्र में अपने काम नहीं आते हैं. जरूरत है ऐसे लोगों को वसीम अहमद से सिख लेने की.

Related posts

बाइक और हाइवा की जोरदार टक्कर में बच्‍ची की मौत, पति-पत्नी घायल

Sanjeev

मंत्री अमर बावरी ने केक काटकर मनाया एके राय का 85वां जन्मदिन, कहा- राय दादा से प्रेरणा लेने की जरूरत

Sanjeev

राज्‍यसभा की 6 सीटों पर पांच जुलाई हो होगा उपचुनाव, बिहार से रामविलास होंगे एनडीए उम्‍मीदवार

Rajesh

बिहार में कातिल बनी गर्मी, औरंगाबाद में लू ने ली 30 लोगों की जान

Rajesh

अस्‍पताल में नहीं रहते हैं डॉक्‍टर, कंपाउंडर, एएनएम और सहिया के भरोसे चल रहा करोड़ों की लागत से बना अस्‍पताल

Rajesh

डॉ अजय कुमार को मिली संजीवनी, विधानसभा चुनाव तक पद पर बने रहेंगे

Manoj Singh
WhatsApp chat Live Chat