रोटरी क्लब के स्‍वास्‍थ्‍य शिविर में मिले गंभीर अवस्था में बारह बच्चे, निःशुल्क इलाज करायेगा क्लब

धनबाद  : गर्भवती होने के साथ ही यदि कोई भी महिला चिकित्सकों की निगरानी में रहे और बराबर जांच कराते रहे तो कोई भी बच्चा दिल का मरीज नहीं हो सकता. उक्त तथ्य आज रोटरी क्लब ऑफ धनबाद सेंट्रल के विशेष जांच शिविर में सामने आया. शिविर में शून्य से लेकर बारह साल तक के बच्चों के जन्मजात हृदय व हृदयवाहिका रोग के जांच के बाद सामने आया.

रोटरी क्लब ऑफ धनबाद सेंट्रल ने आज बालाजी चिल्ड्रेन हॉस्पीटल के संयुक्त तत्वावधान में आविष्कार डायग्नोस्टिक सेंटर में बारह साल तक के बच्चों का निःशुल्क जांच किया गया. पीएमसीएच के शिशु रोग विशेषज्ञ डॉ. अविनाश कुमार ने शिविर में आये दर्जनों बच्चों की जांच की और आवश्यकतानुसार उचित परामर्श भी दिया. इस दौरान बारह बच्चों को अति गंभीर पाते हुए उसे ऑपरेशन के लिये क्लब की ओर से पटना में आगामी दो अक्टूबर को आयोजित विशेष जांच कैंप के लिये भेजने पर निर्णय लिया गया.

गर्भवती महिलाओं को जागरूक होना जरूरी




इस दौरान रोटरी क्लब के वरीय सदस्य डॉ. आशीष बजाज ने बताया कि गर्भवती महिलाओं को काफी सजग रहना होगा. क्योंकि उनके गर्भधारण के साथ ही बच्चों के स्वास्थ्य का ख्याल उन्हें रखना होगा. किसी भी तरह की बीमारी से यदि वह पूर्व से ग्रसित हैं तो इसकी जानकारी डॉक्टरों को देनी होगी. तभी हम अपने बच्चों को स्वस्थ रख पायेंगे.

फाइनल स्क्रेनिंग के लिये पटना जाएंगे बच्‍चे

वहीं क्लब के अध्यक्ष दीपक कानोड़िया ने बताया कि रोटरी क्लब की ओर से आयोजित इस विशेष कैंप में बच्चों की जांच के बाद ऑपरेशन योग्य पाये जाने वाले बच्चों को क्लब अपने खर्च पर फाइनल स्क्रेनिंग के लिये पटना भेजेगी जहां रोटरी क्लब के विभिन्न इलाकों से भेजे गये बच्चों को विशेषज्ञों द्वारा जांच किया जायेगा और उसके बाद ऑपरेशन योग्य रोगियों का निःशुल्क ऑपरेशन भी कराया जायेगा.



Loading...
WhatsApp chat Live Chat