NEWS11

Bokaro Breaking Jharkhand Jharkhand Top

उफ्फ ये गर्मी : आसमान से बरस रहे अंगारे, शोलों की तरह धधक रही जमीन

बोकारो : ‘उफ्फ ये गर्मी’ ये हम नहीं बोकारोवासी कह रहे हैं. पिछले कई दिनों से बोकारो के लोग घर से बाहर निकलते ही कहते हैं उफ्फ ये कैसी गर्मी है, मानो सूर्य भगवान जला ही देंगे. मंगलवार को बोकारो का पारा 42 डिग्री है. बाहर निकलते ही लोग छाता में, तो कोई मुंह पर कपड़ा बांधे, तो कोई सिर से मुंह तक गमझा लपटे लोग दिख जायेंगे. इतनी गर्मी है कि लोग इस गर्मी में अपनी प्यास बुझाने के लिए कोई गन्ने का रस पीता है, तो कोई डाभ का पानी, सत्तू, लस्सी आदि पीते दिख जायेंगे. गर्मी के दिनों में लोग तरबूज, खीरा और ककड़ी खाते  नजर आ जायेंगे.

शहर में गर्मी का आलम यह है कि सुबह के आठ बजे के बाद से ही लू के थपेड़े चलने लग रहे हैं. दोपहर 12 बजे के बाद तो स्थिति ऐसी हो जाती है कि मानो आसमान से अंगारे बरस रहे हों और जमीन शोलों की तरह धधक रही हो. झुलसाती गर्मी की तपिश में सड़कों पर दोपहिया या पैदल चलना शोलों से गुजरकर चलने जैसा प्रतीत हो रहा है. लोग अभी से ही घर से बाहर निकलने की हिम्मत नहीं जुटा पा रहे. वे दिन भर घर में दुबके रहने को विवश हैं. अनिवार्यतावश लोग निकलते भी हैं तो पूरे एहतियात के साथ मुंह बांधे.

इस गर्मी में सबसे ज्यादा परेशानी स्कूल जाने वाले छोटे-छोटे बच्चों को हो रही है. इसके अलावा सड़कों, फुटपाथ पर गुजर-बसर करने वाले गरीबों का भी बुरा हाल है. वहीं, दो वक्त की रोटी की खातिर मेहनतकश रिक्शाचालकों, ठेला चालकों को भी गर्मा के बावजूद काफी परेशानियां झेलनी पड़ रही है. दूसरी तरफ गर्मी की भीषणता बढ़ने के साथ-साथ शहर में शीतल-पेय, शरबत आदि की दुकानों पर भीड़ उमड़ रही है, जिसे पीकर लोग राहत की सांस ले रहे हैं. वहीं फ्रिज, पंखा, कूलर, एसी की खरीदारी भी तेज होती जा रही है. कुल मिलाकर, आने वाले दिनों में बोकारोवासियों को अभी और गर्मी का दंश झेलना पड़ेगा, जिसके लिये अभी से ही उन्हें तैयार रहना होगा.

Related posts

बाइक और हाइवा की जोरदार टक्कर में बच्‍ची की मौत, पति-पत्नी घायल

Sanjeev

मंत्री अमर बावरी ने केक काटकर मनाया एके राय का 85वां जन्मदिन, कहा- राय दादा से प्रेरणा लेने की जरूरत

Sanjeev

राज्‍यसभा की 6 सीटों पर पांच जुलाई हो होगा उपचुनाव, बिहार से रामविलास होंगे एनडीए उम्‍मीदवार

Rajesh

बिहार में कातिल बनी गर्मी, औरंगाबाद में लू ने ली 30 लोगों की जान

Rajesh

अस्‍पताल में नहीं रहते हैं डॉक्‍टर, कंपाउंडर, एएनएम और सहिया के भरोसे चल रहा करोड़ों की लागत से बना अस्‍पताल

Rajesh

डॉ अजय कुमार को मिली संजीवनी, विधानसभा चुनाव तक पद पर बने रहेंगे

Manoj Singh
WhatsApp chat Live Chat