फिर सुर्ख़ियों में आई वंदना डाडेल, facebook पर व्यक्त किए अपने विचार

VANDANA DADEL, facebook post हजारीबाग : हजारीबाग की आयुक्त वंदना डाडेल का facebook पोस्ट इन दिनों फिर से सुर्ख़ियों पर है. अपने पोस्ट पर वंदना ने लिखा  कि प्रशासक जिनके लिए काम करते हैं, उनके बारे में सामान्य जानकारी होनी जरूरी है. जनता के राजनीतिक जीवन की मौलिक जानकारी भी प्रशासक को होनी चाहिए.

जाने कैसे टल सकता है झारखंड मुक्ति मोर्चा का 5 जुलाई का बंद? 

वंदना ने लिखा कि, मैंने हालया घटनाक्रम के मद्देनजर एससी रॉय की किताब द मुंडाज एंड देयर कंट्री पढ़ी. किताब में मुंडा और उरांव के लिए ईसाई मिशनरियों के आगमन को वरदान बताया गया है. जिसमे लिखा गया है कि ईसाई मिशनरियों ने मुंडा और उरांव जनजाति को बढ़ने का काम किया सामाजिक और शैक्षणिक स्तर पर.

अभी भी मिशनरियां मुंडाओं को शराब व्यापारियों और कुली-ठेकेदारों से बचाने के लिए बहुत काम कर रही है. मिशनरियां हर वो काम कर रही है जिससे जाती-जनजाति का भला हो.




रांची यूनिवर्सिटी ने जारी किया स्‍नातक का परीक्षा परिणाम, 91.2 प्रतिशत छात्र हुए पास

सोशल मीडिया पर टिप्पणी के लिए मिल चुका है नोटिस

रकार को निशाने पर ले कर किए गए उनके पोस्ट पर सरकार ने शोकॉज भी दिया था. दरअसल जब मुख्यमंत्री रघुवरदास ने झारखंड में आदिवासियों के जबरन धर्मपरिवर्तन करने वाले संगठनों पर कार्रवाई की बात कही थी, तब वंदना का पोस्ट चर्चा में आया था. वंदना ने लिखा था कि जब सरकारी कार्यक्रमों में भी आदिवासियों के धर्म और धर्म परिवर्तन पर टिप्पणी होने लगे तो मन में सवाल उठना वाजिब है. क्या इस राज्य में आदिवासियों को स्वेच्छा से, सम्मान से अपना धर्म चुनने का भी हक नहीं. वंदना डाडेल की पोस्ट के बाद सरकार ने कारण बताओ नोटिस जारी किया था. वंदना ने अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का तर्क दिया था जिसके बाद कोई कार्रवाई नहीं की गई थी.

इन्हें भी देखें ….रंजीत कोहली, कौशल रानी और मुश्‍ताक पर आरोप गठन, 16 जुलाई से गवाही के लिए तिथि निर्धारित





Loading...
WhatsApp chat Live Chat