जंगली भालू ने दो महिला समेत तीन लोगों की ली जान, ग्रामीणों में दहशत  

जंगली भालू ने तीन लोगों की जान ले लीगुमला  : जिले के भरनो  प्रखंड के मारासिली पंचायत अंतर्गत खरतंगा गांव में जंगली भालू ने तीन लोगों की जान ले ली. मरने वालों में दो महिला व एक पुरुष शामिल है. जंगली भालू के द्वारा तीन लोगों की जान लेने के बाद ग्रामीण क्षेत्रों में भय का माहौल है.

पत्‍ता तोड़ने जंगल गई महिला को भालू ने मार डाला

लोगों ने बताया कि सबसे पहले भालू ने पोढा उरांव की पत्नी 27 वर्षीय प्रमिला उरांव पर  हमला कर उसे मार डाला. लोगों ने बताया कि  आज  सुबह महिला खरतंगा जंगल में पत्ता तोड़ने गयी थी, तभी एक जंगली भालू  ने हमला कर दिया, जिससे घटना स्थल में ही उसकी मौत हो गयी. जंगल में गयी अन्य महिलाओं ने परिजन व ग्रामीणों को इसकी सूचना दी. जिसके बाद  भरनो पुलिस ने घटना स्थल से शव को कब्जे में लिया और पोस्टमार्टम के लिए गुमला भेज दिया. ग्रामीणों ने बताया कि कई महीनों से जंगली भालू पैला पहाड़ में डेरा डाले हुए है.

इसे भी पढ़ें : सरकार-संवेदक विवाद में एनएच 99 व 100 गड्ढ़े में तब्दील, जान हथेली पर रखकर सफर कर रहे लोग (देखें वीडियो)  

खरतंगा गांव के ही दो और लोगों को भालू ने मार डाला

वहीं मारासिली पंचायत अंतर्गत खरतंगा गांव में ही भालू के हमले से दो और लोगों की मौत हो गयी. एक  मृतक की पहचान  खरतंगा गांव निवासी 50 वर्षीय सुधनाथ बड़ाईक के रूप में की गई है, वहीं दूसरे मृतक की पहचान इसी गांव के मुन्ना मुंडा की पत्नी फूलो मुंडा के रूप में हुई है. दोनों को जंगली भालू ने मार डाला.




खेत में काम करने के दौरान भालू ने सुधनाथ को मार डाला

जानकारी के अनुसार दिन के 11 बजे सुधनाथ अपने खेत में काम कर रहा था इसी क्रम जंगली भालू ने अचानक आकर सुधनाथ पर हमला कर दिया. भालू ने सुधनाथ के चेहरे को पूरी तरह से नोंच डाला, जिससे मौके पर ही उसकी मौत हो गई. ग्रामीण भरनो पुलिस की मदद से जंगली भालू को ढूंढने गये थे, तभी जगंल के अंदर फूलो का शव मिला. पुलिस ने फूलो के शव को अपने कब्जे में लिया. एक ही दिन भालू के हमले से तीन लोगों की मौत से  गांव में सन्नाटा छाया हुआ है. ग्रामीणों में भालू का खौफ इस कदर है कि वे  दिन में भी खुद को असुरक्षित महसूस कर रहे हैं.

इसे भी पढ़ें : धनबाद के किसानों ने वैज्ञानिकों को दी मात, आग पर खेती कर लायी हरियाली

अभी तक भालू को पकड़ने या भगाने को लेकर वन विभाग ने कोई पहल नहीं की

वन विभाग के पदाधिकारियों द्वारा अभी तक इस आदम खोर भालू को भगाने या पकड़ने की कोई पहल नहीं की गई है. जिससे ग्रामीणों में विभाग के प्रति आक्रोश है. मृतक सुधन की पत्नी को वन विभाग के वनरक्षी मंगल उरांव ने  मुखिया माधुरी देवी  द्वारा 10 हजार रुपये दिया और मृतक प्रमिला के परिजनों को 20 हजार रुपये तत्काल वन विभाग द्वारा दी गयी.





WhatsApp chat Live Chat