BREAKING

निजी स्कूलों की मनमानी के खिलाफ उठाई आवाज, तो स्कूल संचालकों ने दर्ज करवा दी झूठी शिकायत

धनबाद : निजी स्कूलों की मनमानी के खिलाफ तोपचांची प्रखंड के गोमो दक्षिण पंचायत के मुखिया राजेंद्र सिंह ने आवाज उठाया था, जिसका उन्हें गंभीर परिणाम भुगतना पड़ रहा है. जी हां, राजेंद्र सिंह ने तोपचांची प्रखंड के सभी निजी स्कूलों द्वारा मनमाने ढंग से फ़ीस लिए जाने, री-एडमिशन, स्कूलों में किताबों की बिक्री के खिलाफ मुहीम छेड़ रखा है. इसके लिए उन्होंने जिला शिक्षा पदाधिकारी से लेकर सूबे के मुखिया (मुख्यमंत्री) तक को पत्र लिखकर न्याय की गुहार लगायी है. अपने पत्र के माध्यम से राजेंद्र सिंह ने तोपचांची प्रखंड स्थित मोंटफोर्ट एकादमी, गोमो लोको बाजार स्थित गुरुनानक स्कूल, जीतपुर स्थित संत मैरी डे स्कूल, पुराना बाजार स्थित होली चाइल्ड स्कूल आदि के खिलाफ बच्चो से री-एडमिशन के पैसे, किताबों को स्कूल के माध्यम से बेचना आदि आरोप लगाए हैं.

जांच में सही पायी गयी शिकायत

तोपचांची प्रखंड के शिक्षा प्रसार पदाधिकारी बंसीधर राम के अनुसार निजी स्कूलों की मनमानी यानी स्कूलों में री-एडमिशन के नाम पर लिए जाने वाले पैसे, किताबों की बिक्री आदि मामलों की जांच करने को विभाग द्वारा पत्र प्राप्त हुई थी. मामले की जांच की गई. तोपचांची के दयाबांस पहाड़ स्थित मोंटफोर्ट अकादमी की जांच में कुछ गड़बड़िया पायी गई है, जिसकी जांच रिपोर्ट संबंधित विभाग को भेज दी गई है.




आवाज दबाने की पुरजोर कोशिश

इधर गोमो दक्षिण के मुखिया राजेंद्र सिंह से बात करने पर उन्होंने बताया कि निजी स्कूलों की मनमानी के खिलाफ आवाज उठाने के लिए उन्हें अच्छी कीमत चुकानी पड़ रही है. कुछ स्कूलों के प्रबंधकों द्वारा मेरी आवाज को दबाने की पुरजोर कोशिश किया गया. जिसके तहत हरिहरपुर थाने में मुखिया के खिलाफ झूठी शिकायत भी दर्ज कराकर आवेदनकर्ता को परेशान करने की प्रयास किया गया. वहीं पुलिस की जांच में सभी आरोप गलत पाये गये.

स्कूलों को हर साल दिए जाते हैं दिशा-निर्देश

बता दें कि हर साल जिला प्रशाशन और राज्य सरकारों द्वारा सभी निजी स्कूलों को सख्त निर्देश दिए जाते हैं कि स्कूलों को री-एडमिशन के नाम पर छात्र-छात्राओं से पैसे नहीं लेने है. न ही किताबों की बिक्री स्कूल के माध्यम से की जानी है. लेकिन इन निर्देशों को सभी निजी स्कूल प्रबंधन ठेंगे पर रखकर अपनी मनमानी करती रहती है. अब देखना है गोमो के राजेंद्र सिंह द्वारा उठाये गये कदम से इन स्कूलों पर क्या कार्यवाही होती है.

 



WhatsApp chat Live Chat