खूंटी: फर्जी बैंक खोल युसूफ पूर्ति ने ठगे ग्रामीणों से लाखों रुपए, अब फरार

yusuf purti ran away with villagers money खूंटी: बैंक ऑफ ग्रामसभा खोलने वाला पत्थलगड़ी का मास्टरमाइंड स्वयंभू नेता यूसुफ पूर्ति आदिवासियों का लाखों रुपये लेकर फरार है. खूंटी के उदबुरू में पिछले माह यूसुफ पूर्ति ने बैंक ऑफ ग्रामसभा भवन का शिलान्यास किया था. उनके वॉलेंटियर द्वारा बैंक ऑफ ग्रामसभा में खाता खुलवाने का कार्य प्रारंभ कर दिया गया था. एक महीने में करीब पांच हजार खाते खोले गए. खाता खोलने में प्रत्येक व्यक्ति को कम से कम 100 रुपये जमा करना होता था. इसके अलावा कई लोगों ने अधिक ब्याज के लालच में मोटी रकम भी जमा की थी. इसमें सौको के कमल मुंडू ने बैंक ऑफ ग्रामसभा में अधिक ब्याज के लालच में दो लाख रुपये जमा किया था. उसकी रसीद उसे दी गई थी. उस रसीद पर स्वयंभू नेता यूसुफ पूर्ति का हस्ताक्षर है. उसने ग्रामीणों को सरकारी बैंकों में जमा पैसे को निकालकर बैंक ऑफ ग्रामसभा में जमा करने का फरमान भी सुनाया था. इस फरमान के बाद कई ग्रामीणों ने सरकारी बैंकों में अपने खाते से रुपये निकालकर बैंक ऑफ ग्रामसभा में जमा किया था और कई ग्रामीण तैयारी में थे.




कहा था- पैसे डबल करूंगा

यूसुफ पूर्ति ने कई ग्रामीणों को ग्रामसभा बैंक में पैसा जमा करने पर पैसा डबल करने का सपना दिखाया था. लोन देने की बात भी कही गई थी. ग्रामीणों से लिए गए रुपये एक रजिस्टर में नाम, पता, पिता का नाम और रुपये की संख्या लिखकर जमा कर लिए गए. उदबुरू स्थित यूसुफ के घर पर जब पुलिस की छापामारी हुई तो बैंक ऑफ ग्रामसभा के पासबुक और रजिस्टर बरामद हुए हैं. ग्रामीणों से खाता खुलवाने के नाम पर सौ रुपये से लेकर पांच सौ रुपये लिए गए थे. छापेमारी में दस हजार रुपये नकद भी मिले हैं. यहीं नहीं, ग्रामसभा मेंबर बनने का रसीद भी पुलिस ने बरामद की है.

ठगे गये ग्रामीण

इस संबंध में एसपी अश्विनी कुमार सिन्हा ने कहा कि यूसुफ पूर्ति के घर में छापामारी में कई आपत्तिजनक दस्तावेज बरामद हुए हैं. वह कई लोगों से लिए बैंक ऑफ ग्रामसभा में खाता खोलने और जमा राशि को डकार गया है. भोले-भाले आदिवासियों को अपना देश और राज्य का सपना दिखाकर उनके जीवनभर की कमाई ग्रामसभा बैंक में जमा करवाया था. पुलिस इस मामले में जांच कर रही है. ग्रामीणों में यूसुफ पूर्ति के प्रति विश्वास कम होने लगा है. उसकी तलाश में पुलिस कई जगहों पर छापेमारी कर रही है.





Loading...
WhatsApp chat Live Chat