NEWS11

Zero Balance Saving Accounts: SBI, HDFC, AXIS और ICICI देते हैं ये खास सुविधा, खाते में नहीं रखना होगा बैलेंस

नई दिल्ली:  यदि आप अपने बचत बैंक खाते में मासिक औसत बैलेंस (एमएबी) को नहीं बनाए रखना चाहते हैं, तो आपके लिए जीरो बैलेंस अकाउंट का चयन करना बेहतर है. इस खाते में ग्राहकों को सामान्य बैंक खाते के विपरीत, किसी भी न्यूनतम औसत बैलेंस को बनाए रखने की आवश्यकता नहीं होती है. भारतीय स्टेट बैंक (SBI) से लेकर ICICI और HDFC बैंक तक सभी बैंक इन दिनों जीरो बैलेंस सेविंग अकाउंट खोलने का विकल्प देते हैं. तो आप भी खाते में बैलेंस रखने की झंझट से मुक्त होना चाहते हैं तो आपके लिए जीरो बैलेंस अकाउंट सबसे बेहतर है.

ICICI बैंक

जीरो बैलेंस अकाउंट के लिए आईसीआईसीआई बैंक 50 लाख रुपये से नीचे की राशि के लिए 3.5 फीसद और 50 लाख और उससे अधिक के लिए 4 फीसद की दर से ब्याज देता है. इन खातों पर देय ब्याज छमाही है. यदि आपके पास मौजूदा आईसीआईसीआई बैंक बचत खाता नहीं है, तो आप एक मूल बचत बैंक जमा खाता भी खोल सकते हैं. बैंक एक डेबिट कार्ड और एक चेक बुक भी मुफ्त देते हैं.

State Bank of India (SBI)

जीरो बैलेंस खाते के लिए एसबीआई 1 करोड़ रुपये तक की राशि पर 3.5 फीसद और 1 करोड़ रुपये या उससे अधिक के लिए 4 फीसद की दर से ब्याज दर देता है. SBI बेसिक सेविंग बैंक डिपॉजिट अकाउंट खोलने की सुविधा देता है जिसके तहत आप एक खाता खोल सकते हैं और जीरो बैलेंस बनाए रख सकते हैं। इस खाते पर कोई अतिरिक्त शुल्क लागू नहीं हैं. पैसे जमा करने की कोई ऊपरी सीमा निर्धारित नहीं है और खाताधारकों को खाते के साथ RuPay डेबिट कार्ड मिलता है. हालांकि, खाताधारक के पास अगर जीरो बैलेंस अकाउंट है तो वह दूसरा खाता नहीं रख सकते हैं.

Axis बैंक

जीरो बैलेंस अकाउंट के लिए एक्सिस बैंक 50 लाख रुपये तक की राशि के लिए 3.5 फीसद की ब्याज दर देता है. 50 लाख बैंक 50 लाख रुपये से 100 करोड़ रुपये की राशि के लिए 4 फीसद और 100 करोड़ रुपये से ऊपर 6 फीसद की ब्याज दर देता है. एक्सिस बैंक का जीरो बैलेंस अकाउंट बस एक मोबाइल नंबर, पैन कार्ड डिटेल्स और आधार की जानकारी देने से खुल जाता है. जीरो बैलेंस अकाउंट के साथ, आपको 1,000 रुपये से अधिक के बैलेंस पर ऑटो-स्वीप फ्लेक्सी एफडी भी मिलती है. हालांकि, यह खाता अधिकतम 1 लाख रुपये के कैपिंग के साथ आता है जिसे खाते में जमा किया जा सकता है. लेकिन अगर आप इस खाते को पूरी तरह से केवाईसी खाते में बदल देते हैं, तो अधिकतम खाते की शेष राशि के प्रतिबंध हटा दिए जाते हैं.

HDFC बैंक

जीरो बैलेंस खाते के लिए एचडीएफसी बैंक 50 लाख रुपये तक की राशि के लिए 3.5 फीसद की दर से ब्याज देता है और 50 लाख रुपये और उससे अधिक के लिए 4 फीसद की दर से ब्याज देता है. अन्य बैंकों की तरह मूल बचत बैंक जमा खाते के साथ आप एक शून्य शेष खाता खोल सकते हैं. मुफ्त आईवीआर-आधारित फोन बैंकिंग सुविधा और RuPay डेबिट कार्ड का लाभ ग्राहक को एक अंतरराष्ट्रीय डेबिट कार्ड में अपग्रेड करने के विकल्प के साथ दिया जाता है.

Related posts

कभी हुआ करता था एचईसी का मुख्य मंच, आज बना बदहाल

Sumeet Roy

गोकुल वृन्दावन की तरह सज़ा हैप्पी फीट स्कूल का प्रांगन, बाल कृष्णा ने प्रस्तुत किया मनोरंजक कार्यक्रम…

Sumeet Roy

दो बाइक की सीधी टक्‍कर में एक छात्र की मौत, 5 घायल

Rajesh

मच्छरों से हार रहे जंगलों में नक्सलियों से लोहा लेने वाले जवान

Pawan

दूसरे दलों से बीजेपी का दामन थामने वाले विधायकों के लिये BJP की दो टूक, कहा……

Pawan

विधानसभा चुनाव : सिटिंग सीट से ज्यादा हारी हुई सीटों पर टिकी बीजेपी की निगाहें

Pawan
WhatsApp chat Live Chat